You are currently viewing इंफोसिस और माइक्रोसॉफ्ट आए साथ, जेनरेटिव AI पर मिलकर करेंगे काम

इंफोसिस और माइक्रोसॉफ्ट आए साथ, जेनरेटिव AI पर मिलकर करेंगे काम


Generative AI : इन्फोसिस ने 26 सितंबर को घोषणा की है कि वो माइक्रोसॉफ्ट के साथ मिलकर काम करेंगे, इसके जरिए इंडियन कंपनी टोपाज और अमेरिकी टेक कंपनी एज्योर ओपन एआई सर्विस के आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्रोग्राम को विकसित करने में मदद करेगी.  

इन्फोसिस के अनुसार ये दोनों ही कंपनी AI को विकसित करने में सक्षम हैं और इसके जरिए बिजनेस को बढ़ाने में तो मदद मिलेगी. भारतीय टेक कंपनी इन्फोसिस ने बताया कि इसके जरिए डेटा और इंटेलिजेंस में बड़ा बदलाव आएगा जो राजस्व को बढ़ाने में मददगार होगा. 

डिजिटल पेमेंट में मिलेगी मदद

इन्फोसिस के अनुसार टोपाज एंटरप्राइजेज कस्टमर के डिजिटल ट्रांजेक्शन को AI की मदद से बेहतर करेगी. इसमें अमेरिकी टेक कंपनी एज्योर ओपन एआई सर्विस भी मदद करेगी. वहीं दोनों कंपनी की ओर से बताया गया कि दोनों कंपनी के साथ काम करने से टर्न अराउंड टाइम, फ्यूचर प्रूफ इंवेस्टमेंट और नए बिजनेस मॉडल शुरू करने में मदद मिलेगी. आपको बता दें कुछ समय पहले रिलायंस ने NVIDIA के साथ AI इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने और विकसित करने के लिए करार किया है.

रिलायंस जियो को होगा इससे फायदा

NVIDIA द्वारा तैयार किए जाने वाले AI इंफ्रास्ट्रक्चर रिलायंस इंडस्ट्रीज की दूरसंचार शाखा, रिलायंस जियो इन्फोकॉम के लिए AI की नींव रखेगा. दुनियाभर में AI के आने से लोगों के दैनिक जीवन में बड़ा बदलाव आ रहा है. ऐसे में रिलायंस जियो पूरे भारत में AI के विस्तार के लिए अपने 450 मिलियन जियो यूजर्स के लिए AI एप्लिकेशन तैयार करेगा.

AI से किसानों को मिलेगी उनकी भाषा में मौसम की जानकारी

एआई ग्रामीण किसानों को मौसम की जानकारी और फसल की कीमत जानने में किसानों की स्थानीय भाषा में सेल फोन के माध्यम से बातचीत करने में मदद करेगा. साथ ही जहां डॉक्टर तुरंत उपलब्ध नहीं होते वहां AI बीमारी लक्षण और इमेजिंग स्कैन करके चिकित्सा में मदद करेगा. वहीं एआई की मदद से वायुमंडलीय डेटा का उपयोग करके चक्रवात और तूफान की सटीक जानकारी मिल सकेगी.

यह भी पढ़ें :  

क्‍या आप भी करते हैं अपने बच्‍चों की तस्‍वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर? जान लीजिए कितने बुरे हो सकते हैं नतीजे



Source link

Leave a Reply